मृत्यु की तारीख: एल्बर्ट एइंस्टीन का निधन 18 अप्रैल, 1955 को हुआ था।

स्थान: उनकी मृत्यु न्यूजीलैंड के प्रिंसेपर्टन में हुई थी, जहां वे उस समय ठहर रहे थे।

आयु: उनकी मृत्यु के समय वे 76 वर्ष के थे।

मृत्यु का कारण: उनकी मृत्यु का कारण एक आर्द्र आघात या ब्रेन हेमोरेज था, जिससे उनकी सांविदिकता कमजोर हो गई और अंत में उनका निधन हो गया।

उनका योगदान: एल्बर्ट एइंस्टीन एक प्रमुख भौतिक विज्ञानी और थ्योरेटिकल फिजिक्सिस्ट थे, जिनके योगदान ने भौतिक विज्ञान में क्रांति ला दी।

उनका एड्यूकेशनल लीगेसी: उनके विचार और आविष्कारों की वजह से वे आज भी दुनिया भर में याद किए जाते हैं, और उनकी एड्यूकेशनल लीगेसी आज भी वैज्ञानिकों को प्रेरित कर रही है।

विश्व प्रसिद्धता: एल्बर्ट एइंस्टीन वैज्ञानिक समुदाय में अत्यंत प्रसिद्ध हैं, और उन्हें भौतिकी विज्ञान के महान गणितज्ञों में से एक माना जाता है।

नॉबेल पुरस्कार: उन्हें 1921 में फिजिक्स के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, जो उनके विश्वसनीय योगदान के लिए था। 

एमसी स्कूल: एल्बर्ट एइंस्टीन का जन्म जर्मनी में हुआ था, और उनका शिक्षा का आरंभ एमसी स्कूल में हुआ था, जहां उन्होंने अपने गणितीय प्रतिभा का पहला प्रमाण दिखाया। 

विज्ञान के संबंध में अन्य क्षेत्रों में योगदान: एल्बर्ट एइंस्टीन के विचार और सिद्धांत विज्ञान के कई क्षेत्रों में अहम योगदान किए, जैसे कि आविष्कारिक फिजिक्स, ग्रेविटेशनल वेव्स, और लाइट की क्वांटम प्रक्रिया।