Pariksha Par Charcha 2024 Live | PM MODI ने कहा इन तरीको से करे पढाई सफलता आपके कदमो में आएगी

Pariksha Par Charcha 2024 Live
Pariksha Par Charcha 2024 Live

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज छात्रों को Pariksha Par Charcha को लेकर उन्हें अपने परीक्षा से निपटाने का एक तकरीर मंत्र बताते हैं आज परीक्षा पर चर्चा का विषय था और इसका शुरुआत आज सुबह 11:00 बजे से प्रगति मैदान से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बच्चों को संबोधित किया जिसमें उन्होंने कई तरह के उपाय बताएं जिससे बच्चे सही तरीके से पढ़ सके यह उनका खास मंत्र.

Pariksha Par Charcha

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी कार्यक्रम के सातवें संस्करण में विद्यार्थियों को संबोधित करने के लिए आए हैं वह छात्र जो एग्जाम से डरते हैं और उसके तनाव में फंस जाते हैं उन्हें कुछ समझ नहीं आता रहता है उन सबके लिए नरेंद्र मोदी जी ने इस कार्यक्रम का शुरुआत कई बार किया है जिसमें काफी बच्चे भी भाग लेते हैं

चाहे वह दसवीं से नीचे हो या फिर उसके ऊपर का प्रगति मैदान के मंडपम में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है संबोधन से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आते ही बच्चों ने लगाई तालिया की झंकार और कई तरह के यहां पर कलाकृतियां भी देखी गई संबोधन के दौरान उन्होंने बच्चों को शानदार प्रदर्शन करने का एक मूल मंत्र बताए इसे देखने के लिए आपको 5-6 घंटे भी कम पड़ते हैं ।

भारत सरकार का एक पोर्टल है माई जीओवी पोर्टल जिस पर 2 करोड़ से अधिक बच्चों ने रजिस्ट्रेशन कराया था और कार्यक्रम के दौरान लगभग 3000 प्रतिभागी प्रधानमंत्री के साथ बातचीत कर रहे हैं वहीं पिछले वर्ष की बात करें तो उसे समय लगभग 31 लाख से ज्यादा लोग बच्चे और शिक्षकों ने मिलकर इस कार्यक्रम को सुलभ बनाया था

प्रधानमंत्री ने कहा कि मोबाइल और सोशल मीडिया का सही इस्तेमाल कैसे करें !

उन्होंने पढ़ने के लिए आपको एक मूल मंत्र बताया है कि आपके घर में एक गैजट जोन बनाना चाहिए जिसमें आपकी पढ़ाई को इंक्लूड नहीं किया जाता है क्योंकि आप अपने पढ़ने के टाइम में पढ़ाई करेंगे और एक गैजेट का अलग घर होगा वहां पर आप पढ़ने के आप थोड़ा सा आप वहां पर गैजेट उसे कर सकते हैं.

अपने सोशल मीडिया उसे कर सकते हैं मोबाइल का एक सही टाइम टेबल बनाएं इस समय पर आपको मोबाइल का इस्तेमाल करना है डाइनिंग टेबल पर कोई गैजेट नहीं होना चाहिए टेक्नोलॉजी से दूर नहीं भाग सकते लेकिन हम इसका सही इस्तेमाल करना जरूर सीख सकते हैं स्क्रीन टाइम ऐप को डाउनलोड कर ले और अपने मोबाइल को सीमित समय तक ही चलाए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा अपने माता-पिता की भरोसा जीते दरअसल आजकल ऐसी होती जा रही है दुनिया की लोग अपने माता-पिता की भरोसा जीतना तो दूर उनके कहीं एक बात को भी नहीं मान सकते यही माता-पिता सोते हैं कि इनको बड़ा करके मुझे क्या फायदा तो मैं सभी बच्चों को ऐसा नहीं कहता हूं लेकिन कुछ ऐसे भी है जो अपने माता-पिता के बाद को नहीं मानते हैं । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना है कि आप अपने माता-पिता की विश्वास को ऊपर लेकर चलिए जो आपके माता-पिता कहते हैं,

pariksha pe charcha Modi JI

उन पर आप खड़े उतारिए आपको सफलता जरूर मिलेगी नहीं तो आप अगर इस दुनिया में सोशल मीडिया के जरिए अगर चाहते हैं आगे जाएं तो शायद ही जा सकते हैं क्योंकि आजकल इस दुनिया में कंपटीशन बहुत ही ज्यादा हो चुका है अगर आपको पढ़ने से कुछ और नहीं तो कम से कम आपको इतना दुनिया में जीने का ज्ञान तो मिल जाएगा कि किस तरह से आखिर हम दुनिया में जीत सकते हैं। इसलिए एक सही रास्ते को चुनिए।

Pariksha Par Charcha 2024 Live

12:21 PM जीवन में निर्णायक बने !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमें अपने जीवन में निर्णायक बनने की जरूरी है जिससे हम आगे की दुनिया जीत सकते हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया कि छात्रों का जीवन रेल्स देखने से कितना ज्यादा बर्बाद हो रहा है:-

आप Reels देखते-देखते आपको यह नहीं पता चलेगा कि आपका समय कितना बर्बाद हो चुका है आपका नींद भी खराब होगा जो पढ़ा लिखा रहेगा वह याद नहीं रहेगा क्योंकि आपका रेल्स देखने के चक्कर में वह सब इंटरटेनमेंट में खत्म हो जाएगा और साथ ही साथ आपके हेल्थ पर भी इसका ज्यादा प्रभाव पड़ता है तो आपको डील्स देखना है या फिर पढ़ाई करना है यह आप डिसाइड कर सकते हैं ।

मैं 30 सेकंड में डिप स्लिप में चला जाता हूं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते हैं साल में 365 दिन होते हैं यह कोई काम नहीं है मैं बिस्तर पर जाते हैं 30 सेकंड के अंदर नींद में चला जाता हूं मैं जानता हूं तो पूरी तरह जागृत रहता हूं लेकिन जब मैं सोता हूं तो पूरी तरह सिर्फ नींद पर फोकस रहती है स्वास्थ्य को संतुलित रखने के लिए आपको नींद बहुत ही जरूरी है अच्छी फिटनेस और एक्सरसाइज जरूरी है तभी आपका दिमाग एक जगह पर फोकस हो पाएगा आप पढ़ाई कर सकोगे ।

पढ़ाई और स्वस्थ है जीवन शैली में फंसे हुए संतुलन बनाएं:-

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जिस तरह मोबाइल को डिस्चार्ज होने के बाद उसे हम चार्ज में लगाते हैं ठीक उसी प्रकार पढ़ाई में मन लगाने के लिए हमें खुद को चार्ज रखना पड़ेगा हमें खुद को स्वस्थ रखना पड़ेगा तभी हम कुछ कर पाएंगे स्वस्थ नहीं रहेंगे तो 3 घंटे परीक्षा में बैठ नहीं पाएंगे बॉडी को चार्ज रखने के लिए धूप में बैठना जरूरी है तभी आपका बॉडी जो है सही तरीके से कम कर सकेगा ।

कुछ बच्चों ने कहा कि प्रधानमंत्री जी हमारी राइटिंग जो है मिनट में खराब हो जाती है तो उन्होंने इस पर एक साधारण से जवाब दिया!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा आप कितने देर पढ़ते हो एक घंटा आधे घंटा दो घंटा 3 घंटा तो कुछ बच्चों ने कहा सर 2 घंटे 3 घंटे तो प्रधानमंत्री ने कहा ठीक है जब आप पढ़ाई करने के लिए बैठते हो तो आपका ध्यान कहां-कहां होता है, बच्चों ने कहा कि कभी-कभी हमारा ध्यान तो पढ़ाई पर बिल्कुल होता ही नहीं है तो प्रधानमंत्री जी ने इसका उत्तर दिया और कहा जब आपका ध्यान पढ़ाई करने पर है ही नहीं तो आपका राइटिंग सही कैसे हो पाएगा

यह किसी एक बच्चे का बात नहीं है यह बहुत सारे बच्चों के साथ ऐसा होता है कि उनके राइटिंग बहुत ही ओवर हो जाती है यानी कि गड़बड़ रहती है तो उन्हें राइटिंग को सही बनाने के लिए उनको वह 10 घंटे पढ़ने की जरूरत नहीं है मैं यह कहता हूं कि आप 5 घंटे पढ़ने के लिए बैठो लेकिन उसे 5 घंटे में आप इतनी बार वही चीज को लिखो रिपीट करो तो आपका राइटिंग एक महीने के अंदर बिल्कुल सही तरीके से आ जाएंगे,

आपको अगर लगता है कि हमारी राइटिंग और भी ज्यादा खराब हो रही है तो आप कहीं से देखिए कि किस तरह का राइटिंग लिखा हुआ है आपको फोकस करना है. बस आपका राइटिंग किसी का टू कॉपी भी कर दीजिए लेकिन आप जिस तरह से कम है आपका राइटिंग वैसा मत रखिए जब आप थक जाते हो तो पानी पीजिए फिर से आप काम करना शुरू कीजिए ।

  • शिक्षक स्कूल में शिक्षा देते हैं वह किसी बच्चे के घर पर देखने नहीं आते हैं कि वह क्या कर रहे हैं क्या नहीं कर रहे हैं फिर अगले दिन जब बच्चे स्कूल जाते हैं तो उनका टैक्स पूरा होता है या नहीं होता है वह शिक्षक को देखना होता है तो बच्चे तो टैक्स पूरा कर लेते हैं लेकिन उसे खुद ज्यादा सीरियस नहीं लेते हैं
  • एक बच्चे ने बड़ा ही अजीब सवाल किया कहा कई बार कंपटीशन रिश्ते बिगड़ते हैं इस स्थिति से हम कैसे बचे।
    पीएम मोदी ने कहा कंपटीशन जरूरी है तभी हम लोग आगे निकल सकते हैं बिना कंपटीशन का हम कुछ नहीं कर सकते हैं अगर आपको लगता है की कंपटीशन करने की वजह से आपके रिश्ते बिगड़ रहे हैं तो आप उन रिश्तो को नजर अंदाज करते चलिए आप अपने काम पर जरूर ध्यान दीजिए पेरेंट्स अपनी संतानों के बीच इस तरह की तुलना ना करें तो ही आपके बच्चे सही तरीके से पढ़ सकेंगे।

Rinku Kumar
Rinku Kumar

Rinku Kumar is a talented and aspiring blogger known for her captivating content and insightful perspectives. Born on March 20, 2002, in Janta West, Muzaffarpur, Bihar, Rinku discovered her passion for writing at an early age. Growing up in a world of ever-evolving digital media, she found herself drawn to the vast opportunities for self-expression and communication offered by the internet.

From a young age, Rinku exhibited a natural flair for storytelling and a keen interest in exploring diverse topics. She honed her writing skills through personal journals, school essays, and online platforms. As she delved deeper into the world of blogging, she realized its potential to not only entertain but also to inform, inspire, and connect with people worldwide.

Articles: 169

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *